“डॉक्टर की सायरी”

एक डॉक्टर सायरी के मुड मे था । अब देखिये उसने दवाईया कैसे समझायी अपने मरीज को ।

दिल बहला कर न मोहब्बत मे धमाल करे ।
सिरप को अच्छी तरह हिला कर इस्तेमाल करे।

दिल मेरा टुट गया उठी जब उसकी डोली ।
सुबह, दोपहर, शाम बस एक एक गोली ।

मोहब्बत करके कभी अपना दिल न गवाए ।
एक एक दिन छोड़ कर इंजेक्शन लगवाए ।

लौट आओ की मोहब्बत का सुरुर चखे ।
तमाम दवाईया बच्चो की पहुच से दुर रखे ।

दिल मेरा इश्क करने पर रजामंद रहेगा ।
इतवार के दिन अस्पताल बंद रहेगा । ।

काजल सोनी

11 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
  3. Kajalsoni 22/05/2016
  4. C.M. Sharma C.m.sharma (babbu) 22/05/2016
  5. C.M. Sharma C.m.sharma (babbu) 22/05/2016
  6. Kajalsoni 22/05/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/05/2016
  8. Kajalsoni 22/05/2016
  9. Sukhmangal Singh sukhmangl 23/05/2016
  10. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017

Leave a Reply