क्या कीमत है मेरे बचपन की……

क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?
हर दम सहमा सहमा सा रहता हु,
कोई उठा मुझे ना ले,
अपनी हवस का शिकार बना ना ले,
हाथ पैर तोड़ मेरे,
अपनी कमाई का साधन बना ना ले,
माँ-बाप की नज़रो के साये में,
बंद दीवारों में रहता हु,
क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?
खिड़की से जब बहार में झाँकता हु,
चहकते रास्ते, महकती डालिया
मक्की के दाने भुनती बुढ़िया,
गुड्डे गुड़िया का खेल, पकडम पकड़ाई,
ना-खुश सा खड़ा हो उनको तलाशता हु,
क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?
लगते है अड्डे,
जहाँ बचपन के अंगो को बेच जाता है,
सरे आम बचपन को,
बोली लगा परोसा जाता है,
क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?
हज़ारो करोड़ो के घोटाले,
दागदार चेहरों के किस्से सुना दिए,
मेरी दर्द भरी दास्ताँ, मेरी चीखो पुकार भरे,
तड़पते बचपन के पन्ने कहाँ छुपा दिए,
क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?
सरकारें, मीडिया, समाज,
हर किसी ने खुद को चुप्पी में ढाला है,
बाप ने खुद को पैसो में,
माँ ने खुद को टी-वी,
किटी पार्टियों में ढाला है,
क्या कीमत है मेरे बचपन की, कौन मुझे बतलायेगा ?

8 Comments

  1. C.M. Sharma C.m.sharma (babbu) 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
    • mani mani 21/05/2016

Leave a Reply