“लड़िया मिलन की “

लड़िया मिलन की तु जोड़ जा साँवरिया ,
तेरे इक -इक पहरे लगाऊ मै ।
मन के मित तु छोड़ न जा साँवरिया ,
तेरे नैनो के मोल लगाऊ मै ।
नजरो की नजर न लगे तुझे ,
फुलझडीया तुझ पर लुटाऊ मै ।
लड़िया मिलन की तु जोड़ जा साँवरिया,
तेरे इक इक पहरे लगाऊ मै । ।

गाये है जो गीत मिलन के ,
चाहत भरे वो नगमे दिल के ।
साँसो से बढती हुई सांसे ,
अक्सर कहती बुदबुदाती सी ,
धात दिल पर गहरे लगाऊ मै ।
लौट आयी महकी खुशिया ,
टुट कर बिखर जाऊ मै ।
आ अब लड़िया मिलन की तु जोड़ जा सांवरिया,
तेरे इक इक पहरे लगाऊ मै ।

बताऊ तुझको मै बहकी बहकी बाते ,
कह कह तुझको सुनाऊ मै ।
दिल के इशारे सुन ले ,
आजा मेरे दिवाने सुन ले ,
महफिल मे मुस्कुराऊ मै ।
दे कर दिल ये मेरा ,
तुझसे लाख सौदे लगाऊ मै ।
लड़िया मिलन की तु जोड़ जा सांवरिया,
तेरे इक इक पहरे लगाऊ मै । ।

काजल सोनी

5 Comments

  1. C.M. Sharma C.m.sharma (babbu) 21/05/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 21/05/2016
  3. Kajalsoni 21/05/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/05/2016

Leave a Reply