दुल्हन सी सजी धरती

दुल्हन सी सजी धरती

दुल्हन सी सजी हुई
दिखाई देती है पृथ्वी ।
हरियाली रूपी इसके वस्त्र
सुगन्ध वाला छिडक़ा है इत्र
जानवर सारे इसके आभूषण
मोती इसके नाग, देव व किन्नर
लगती है जवान हमेशा
लगती है महकी-महकी ।
दुल्हन सी सजी हुई
दिखाई देती है पृथ्वी ।
श्वेत चांदनी जब इस पर गिरती
और ज्यादा है यह निखरती
देख इसको चांदनी अखरती
इसको चांदनी खूब निरखती
धरती चंचल हिरणी की तरह
लगती है बहकी-सी बहकी ।
दुल्हन सी सजी हुई
दिखाई देती है पृथ्वी ।

One Response

  1. babucm babucm 20/05/2016

Leave a Reply