ऊँचा उठाना है

ऊँचा उठाना है

हाथ को हाथ में बांध कर
चैन हमने बनानी है,
देकर गरीबों को सहारा
नीची जाति ऊपर उठानी है ,
सभी को मिले समान अधिकार
सभी को मिले रोटी पानी बार-बार
सबको मिले एक जगह पर सामान
सभी करें बराबर मेहनत
समय की है यही पुकार
ऐसे ही तो बना सकेंगे हम
हंसता खिलता प्यारा हिन्दूस्तान ।
हंसता खिलता प्यारा हिन्दूस्तान ।
हंसता खिलता प्यारा हिन्दूस्तान ।

3 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 19/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/05/2016

Leave a Reply