नौ कन्या

नौ कन्या

आज सुबह ही
बीवी ने मेरी
मुझे धंधेड़ा
और उठाया ।
आंखें मलते मैं उठ बैठा
क्या है भाग्यवान ,
क्यों शोर मचाया
क्या कहीं आंधी है आई
या फि र भूकंप है आया
कभी तो चैन से सोने दो
क्यों घर को सिर पे उठाया ।
ना रात को चैन
ना दिन में चैन
शादी करके बहुत पछताया ।
यह सुन बीवी तुनक कर बोली
जब देखो तुम्हें तो मैं
आती हूं नजर विष की गोली ।
अब हिस्से आई हूं तुम्हारे
अपने आप मुझे तुम भुगतो ।
पर आज पता है तुम्हें क्या
आज नवराता अंतिम माँ का
और व्रत है अंतिम मेरा
मुझे करना है उद्यापन माँ का ।
पूरा सामान तैयार है अब तो
बस बारी है पूजा की
पूजा में चाहिए नौ कन्या
नौ व्रत किये हैं मैनें
पूरी नौ की नौ कन्या ।
सून उठा बिस्तर से मैं
लेने चला पडोस में कन्या ।
देख मुझे तब अचरज हुआ
पड़ोस में ना थी कोई कन्या ।
घंटे घुमा दो घंटे घुमा
नौ की बात तो बिल्कुल अलग थी
मुझे मिली ना कोई एक कन्या ।
घर आया तो बीवी बैठी थी
देख अकेला मुझे वह बोली ।
देर इतनी लगाई कहां
साथ तुम्हारे नही हैं कन्या
यह सुन मैं रोने लगा ।
इस बात का प्रिये मैं
खुद ही जिम्मवार हूं ।
पैसे मैनें खुब कमाएं
पेशे से मैं डॉक्टर हूं ।
अल्ट्रासाऊंड कर अबोर्सन किये
कन्या भू्रण गर्भ से गिरा दिये ।
पड़ोस में सभी के यहां हैं लडक़े
कन्या नौ कहां से लाऊं ।
मेरी अपनी दो कन्याएं
जब खुद मैंने मरवा डाली ।
फि र भी अब खुद मैं ये सोचूं ,
हां मैं जिमाऊं दुर्गा और काली ।

4 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 19/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/05/2016
  3. C.M. Sharma babucm 19/05/2016
  4. Kajalsoni 19/05/2016

Leave a Reply