मेरा घर

मेरा घर

घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ,
कोई प्रौढ़ है अभी तो
कोई अभी बिल्कुल नन्हा है फू ल ।
पिता वह प्रौढ़ गुलाब है
जिसकी खुशबु माना कभी
फै ली थी घर के हर कोने में
अब पत्तियाँ भी झड़ चुकी हैं
बचा है खाली बीजों का डंठल
उस डंठल में खुशबु के कतरे को
अब भी कहीं ना कहीं ढूंढता हूं ।
घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ।
माँ भी कभी न मुरझाने वाला
झुर्रियों वाला कोमल केवड़े का फू ल है
जिसकी खुशबु आंगन महकाती है
जिसपे लदी सामाजिक दायित्वों की धूल है,
ममता बदली आज भी छलकाती है,
माँ को सीने से लगा कर
आज भी उसकी ममता पाता हूं ।
घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ।
पत्नी खिला चाँदनी का फू ल है
जिसमें महक तो माना है नही
मगर रात में लगती है ताजमहल
रहती हमेशा खिली हुई सी
पे्रम से ओत – प्रोत है
वह प्रेम मेरे लिए है बस
नजरें कटाक्ष निशाना अचूक ।
घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ।
नन्हीं कली है गुडिया मेरी
खेलती कूदती मनोरंजन करती
हंसती तो बिजली फिकी पड़ जाती
कानों में रस घुल जाता जो बोलती
मन मेरा डोल पड़ता
जब वह करती है तुतला कर बातें
मिश्री से मीठी उसकी वाणी सून ।
घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ।
अन्त में बचा मैं
मेरा परिचय मैं क्या दूं
मैं पतझड़ का खिला फू ल हूं
जिसमें न कोई रंग ना कोई खुशबु है
हिलता डुलता हूं हवा के झोंको से
आने वाली हर मुसीबत को
सहने को बस मैं तैयार हूं ।
घर मेरा महकता मधुबन
उसमें खिले तरह-तरह के प्रसून ,
कोई प्रौढ़ है अभी तो
कोई अभी बिल्कुल नन्हा है फू ल ।

Leave a Reply