लिख देना

गलतियाँ पाना जहाँ , वहाँ सुधार लिख देना |
इंसान मिलते हो जहाँ , त्यौहार लिख देना |
ताजी पवन चलती जहाँ हो,बहार लिख देना |
बहे प्रेम की गंगा जहाँ,तुम प्यार लिख देना |
आदेश कुमार पंकज

One Response

  1. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 18/05/2016

Leave a Reply