दो मुझको वरदान

आकर अब माँ शारदे , दो मुझको वरदान |
मधुरगीत मैं गा सकूँ, दे दो मुझको ज्ञान ||
आदेश कुमार पंकज

Leave a Reply