ऐ माँ

तेरी लोरिया, तेरी थपकिया,
परेशां मुझे देख तेरी सिसकिया,
तेरे आँचल में मेरा छुपना,
माथा चुम तेरा मुझे उठाना,
रही तू खुद भूखे पेट,
हर ख्वाहिश का पूरा होना,
हर कदम पे तेरी दुआओ का होना,
तेरी मन्नतो का असर है ऐ माँ,
आज इस मुकाम पे “मनी” होना |

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/05/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/05/2016

Leave a Reply