पेड़ों रूपी ताज

पेड़ों रूपी ताज

देखो पहनाया है आज
प्रकृति ने भूमि को
पेड़ों रूपी ताज।
मगर—–
आज कुछ स्वार्थी जन
पाने हेतु मन चाहा मोती
नोच रहें हैं माँ का तन
फाड़ रहे हैं इसकी धोती
मल रहे हैं गालों पर
धुएँ रूपी कालिख आज ।
देखो पहनाया है आज
प्रकृति ने भूमि को
पेड़ों रूपी ताज।
हरियाली रूपी भूमि को
उजाडक़र मिलेगा क्या
अधिक से अधिक पेड़ लगाकर
सुन्दरता इसकी बढ़ाता जा
मत नोचों इसके तन को
सुनो ध्यान से मेरी बात
देखो पहनाया है आज
प्रकृति ने भूमि को
पेड़ों रूपी ताज।

2 Comments

  1. mani mani786inder 13/05/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 13/05/2016

Leave a Reply