जागो री माँ , जागो री !!

जागो री माँ , जागो री !!

देवासुर संग्राम छिड़ रहा ,
पांचजन्य उद्घोष कर रहा ,
महिषासुर का मर्दन करने ,
आओ माँ ,करके सिंह सवारी !
जागो री माँ , जागो री !!

मानवता कर रही पुकार ,
चहुँ ओर मचा है हाहाकार,
दैत्य दल का मर्दन करने ,
आओ माँ करके सिंह सवारी !
जागो री माँ , जागो री !!

प्राणवायु दूषित हो रही ,
नदियां सारी प्रदूषित हो रही,
भ्रष्टासुर का मर्दन करने ,
आओ माँ ,करके सिंह सवारी !
जागो री माँ ,जागो री !!

दीपिका शर्मा

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 12/05/2016
  2. babucm babucm 12/05/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/05/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/05/2016

Leave a Reply