अनजान लगता है

अनजान लगता है
कवि:- शिवदत्त श्रोत्रिय

अब इन राहो पर सफ़र आसान लगता है
जो गुमनाम है कही वही पहचान लगता है||

जिस शहर मे तुम्हारे साथ उम्रे गुज़ारी थी
कुछ दिन से मुझको ये अनजान लगता है||

कपड़ो से दूर से उसकी अमीरी झलकती है
मगर चेहरे से वो भी बड़ा परेशान लगता है||

मुझको देख कर भी तू अनदेखा मत कर
तेरा मुस्करा देना भी अब एहसान लगता है||

मिलते है घर मे हम सब होली दीवाली पर
सगा भाई भी मुझको अब मेहमान लगता है||

जिंदा थी तो कभी माँ का हाल ना पूछा
तस्वीर मे अब चेहरा उसे भगवान लगता है||

10 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 11/05/2016
    • shivdutt 11/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/05/2016
    • shivdutt 11/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/05/2016
    • shivdutt 11/05/2016
  4. Gayatri Dwivedi 11/05/2016
    • shivdutt 11/05/2016
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 11/05/2016
    • shivdutt 18/05/2016

Leave a Reply