कुछ और हाइकु

कुछ और हाइकु
…आनन्द विश्वास

1.
घड़ी की सुईं
चलकर कहती
चलते रहो।

2.
पानी या खून
बूँद-बूँद अमूल्य
जीवन-दाता।

3.
सूखा ही सूखा
प्यासा मन तरसा
हुआ उदासा।

4.
भ्रष्टाचार से
देश को बचाएंगे
संकल्प करें।

5.
आतंकवाद
समूल मिटाना है
मन में ठानें।

6.
नैतिक मूल्य
सर्वोपरि होते हैं
मन से मानें।

7.
गेंहूँ जौ चना
कैसे हो और घना
हमें सोचना।

…आनन्द विश्वास

6 Comments

  1. babucm babucm 09/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/05/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/05/2016

Leave a Reply