माँ

खुदा ने जिदंगी
सहारा तुझे बनाया मां ।
रोते हुए आयी थी इस दुनिया मे,
हंसना तुने सिखाया माँ ।

बहुत सी ठोकरे खाकर भी ,
तुने दी परवरिश
अच्छे बुरे का पाठ तुने मुझे पठाया माँ ।

शायद बुरी लगती थी सबको मै ,
हर बुराईयो को भुल कर ,
सबको अच्छा मुझे बताया माँ ।

इक तु ही थी जो मुझे रोता हुवा न देख सकी,
दुनिया ने तो खुब रुलाया माँ ।

हर मुश्किलो से लड़ती रही ,
सच्चे अपनेपन से तुने मुझे अपनाया माँ ।

अपने हिस्से का निवाला खिला कर,
इंसान तुने मुझे बनाया मां ।।।

काजल सोनी

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/05/2016
  2. C.M. Sharma babucm 09/05/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/05/2016

Leave a Reply