एक शब्द बस तेरे लिए………

एक शब्द बस तेरे लिए………
नवीन शब्दों को पिरोया नवीन रचना की माला मे…..
जाने कहाँ से धुल उडी….मेरे मोतियों को धूमिल कर दिया…………….

लेखिका – मीरा देवी …..

3 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 06/05/2016
  2. babucm babucm 06/05/2016
  3. Imran Ahmad 07/05/2016

Leave a Reply