इश्क है तुमसे

बेशक मुझे इश्क है तुमसे,
मगर मेरी जा तुम मिल न सकोगी मुझसे ।
जिदंगी भी कशमकश मे है,
है फासला जो तेरे मेरे दरमियान,
कहने की वो कोशिश नही, जो तुम सुन न सकोगी मुझसे ।
बेशक मुझे इश्क है तुमसे,
मगर मेरी जा तुम मिल न सकोगी मुझसे ।।

काजल सोनी

5 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 05/05/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 05/05/2016
  3. Kajalsoni 05/05/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/05/2016
  5. Dharitri Dharitri 22/09/2016

Leave a Reply