रूठ जाते है

सपने ना देखा करो सपने टुट जाते है,
गैरो से क्या कहु , जब अपने ही रुठ जाते है ।

कोशिश होती है ख्वाबो को सच कर जाने की,
पर फिर वही आदत उनकी, पल पल रुलाने की ।

दिल की गहराईयो मे जाने से अक्सर दिल टूट जाते हैं।
गैरो से क्या कहु जब अपने ही रुठ जाते है ।।

काजल सोनी

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/05/2016
  3. Kajalsoni 04/05/2016
  4. Kajalsoni 04/05/2016
  5. C.M. Sharma babucm 05/05/2016

Leave a Reply