“मेरी बेटी”

परीयो के आगोश से ऊतर कर ,
मासुम चेहरा लिए जब “मेरी बेटी” मेरे घर आई थी ,
कुछ को अच्छी लगी,
कुछ को ना पसंद आई थी ।
उसकी खिलखिलाहट से गुंज उठा था सारा घर,
पूरे घर मे बस वही समायी थी ।
जब से “मेरी बेटी” मेरे घर आई थी ।।

इक गहरे रिश्ते मे बंधी मै उसके,
पूरी सिद्ददत से मुझमे वो समायी थी ।
नन्हे कदमो लिए वो बढ़ती चली गई,
मां मां कहते हुए ढूंढती थी मुझे,
वो तो बिलकुल मेरी ही परछाई थी ।
थी खोइ मै उसकी मासूमियत पर ,
जब से “मेरी बेटी “मेरे घर आई थी ।

सबका पुरा ध्यान रखती,
पिता के मन मे भी समायी थी ।
था जाना एक दिन उसे मुझसे दुर ,
जब बजनी शहनाई थी ।
वो तो मेरी ही बेटी थी,
क्यू कहा किसी ने की पराई थी।
खुब खुशिया बाटी उसने जब से “मेरी बेटी ” मेरे घर आई थी ।।

खुब सजाया उसने मेरे घर को,
स्नेह का बंधन बांध के,
अब खुद सज कर पिया के मन मे समायी थी ।
दिल का टुकड़ा ले गया कोई हमसे,
जब हुई उसकी बिदाई थी ।
घर को घर बनाने वाली,
मेरे घर मे दे गई तन्हाई थी ।
सबके गम को समझने वाली ,
“मेरी बेटी ” ही थी जो मेरे घर आई थी ।।
काजल सोनी

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/05/2016
  2. C.M. Sharma babucm 04/05/2016
  3. Kajalsoni 04/05/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/05/2016
  5. Kajalsoni 04/05/2016

Leave a Reply