दुआ

दुआ

मन …………
जिसे बस हर वक्त
रहती हैं तलाश ख़ुशियों की।
ए काश कि _______
मिल जाए ख़ुशियाँ
हर चाहने वालो को ।
खिल जाए चेहरे
हर उदास शख्स के ।।

हर मुफलिसी
रहे कोसों दूर
बस छोटी सी दुआ
यहीं हैं मेरी रब से
जिनकी हसीन कायनात में
खिल रहा हैं ये
मानव रूपी गुलशन

ऐ खुदा तेरी झोली से
बिखरते रहे हर रोज़
यूँ ही ये ख़ुशियों के
रंग-बिरंगे फूल ।।

अनमोल तिवारी “कान्हा”