गम ……….

अफ़सोस इस बात का नहीं की
तेरी नजरो का नूर न बन सके,
गम इस बात का रहेगा ताउम्र
तूने हमे पढ़ने की कोशिश न की !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _______@

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/05/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/05/2016
  2. C.M. Sharma babucm 04/05/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/05/2016
  3. sarvajit singh sarvajit singh 04/05/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/05/2016
  4. Nirdesh 05/05/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/05/2016
  5. Shyam Shyam tiwari 08/05/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/05/2016

Leave a Reply