हद हुई दलाली की

घोटालों का अम्बार लगा फिर भी हद हुई दलाली की
ख़बरंडी भी अब लगे गंदगी कीचड़ वाली नाली की
उद्घोषक आजादी के वो दादुर भी सारे मूक हुए
कजरी भी चाट रहा है देखो जूती इटली वाली की

कवि देवेन्द्र प्रताप सिंह “आग”
9675426080
??????

Leave a Reply