नयन के नूर

भावनायें हों गयीं हैं चकना – चूर अब |
राहें सारी हों गयीं हैं शूल से भरपूर अब |
था कल- तक जिनको नहीं कोई जानता ,
एक दिन में हो गये हैं वे सभी मशहूर अब |
कार्य के प्रति थे सजग जो हर समय ,
देख लो हो गये हैं वे सभी मगरूर अब |
पत्थरों को जो कभी भगवान का थे रूप देते ,
हो गयें हैं स्वास्थ्य से , वे सभी मजबूर अब |
चाहतें हैं फिर बनायें ताज जैसी एक इमारत ,
पर हाथ से लाचार हैं , वे सभी मजदूर अब |
सोचकर कि घाव छोटे ध्यान उस न दिया ,
बन गये हैं देख लो , वे सभी नासूर अब |
द्रोपदी का चीर खिंचते , मूक होकर देखते ,
हो गये हैं , देख लो , वे सभी ही सूर अब |
पास रहते थे कभी , मन में बसे थे जो मेरे ,
हो गये हैं, देख लो , वे सभी ही दूर अब |
था कल तलक पंकज जिसे देखना न चाहता ,
बन गयें हैं , देख लो , वे नयन के नूर अब |
आदेश कुमार पंकज

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/04/2016
  2. C.M. Sharma babucm 28/04/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/04/2016

Leave a Reply