ज़िन्दगी आसान हैं

१.ज़िन्दगी आसान हैं
दुनिया क्यों अनजान हैं
ऐ ऊपर वाला इतना बता
क्या वाकई इंसान अनजान हैं
ज़िन्दगी आसान हैं
२.हसना रोना पाना खोना
सब ज़िन्दगी का दस्तूर हैं
पर इंसान इतना क्यों मजबूर हैं
की हकीकत उसस दूर हैं
क्या वाकई वो अनजान हैं
ज़िनदगी आसान हैं
३. ख़ुशी उसकी खुद मैं छुपी
खुद मैं उसका भगवान हैं
उसकी खुशियों का रास्ता भी आसान हैं
फिर भी वो अनजान हैं
ज़िन्दगी आसान हैं
४. ऐ इंसान तू इतना क्यों परेशान
एक बार तू खुद को पहचान
हर मुश्किल हो जायगी आसान
ना बन जानकर भी अनजान
ज़िन्दगी आसान हैं
by नेहा खोसला

2 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 25/04/2016
    • neha khosla 26/04/2016

Leave a Reply