सच्चे प्यार की सच्चाई

****सच्चे प्यार की सच्चाई****

जिसने किया सच्चा प्यार,
वो तो लुट गया मेरे यार!
सच में ये दुनिया दुनिया नहीं,
धोखे का संसार है!
यहां सच्चाई वाला नहीं,
पैसे और नाम वाला प्यार है!
सच्चाई की कहाँ की जाती है कदर,
सच्चाई की तो खोद दी जाती है यहां कब्र!
मैं तो ईतना ही कहूंगा मेरे यार
की मत करना किसी से सच्चाई और
गहराई वाला प्यार!
मैं मानता हुँ प्यार वही होता है,
जिसमें सच्चाई होती है!
प्यार वही होता है जिसमें गहराई होती है!
मैं मानता हूँ की जिससे होता है सच्चा प्यार,
वही आपकी परछाई होती है!
पर वो सच्चा प्यार किस काम का
जिसके पीछे दुखों और दर्द की खाई होती है!
लुट जाता है सब कुछ
और बात जिंदगी और मौत पर आई होती है!
क्योंकि जिससे करते हो आप सच्चा प्यार
उसे छोड़ना आपकी नजर में बेवफाई होती है!
पर वो सच्चा प्यार प्यार नहीं,
जिसके पीछे “विक्रम” खुद से ही खुद्दाई होती है!!

$ विक्रम वर्मा “चंचल” $

Leave a Reply