महेज इक

महेज इक इत्तेफ़ाक था,
तेरी मुलाक़ातों का वो सिलसिला
वरना यूँ यादों के ज़रिये,
हमारी ज़िंदगी तो ना कटती…

…इंदर भोले नाथ…
http://merealfaazinder.blogspot.in/

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/04/2016
  2. babucm babucm 25/04/2016

Leave a Reply