गुलाम – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

गुलाम

गुलाम बन के …………………….
हम राज करते हैं हसीनों के दिल पे
वरणा शहंशाहों को भी हमने …………
मोहब्बत से महरूम देखा है

शायर : सर्वजीत सिंह
sarvajitg@gmail.com

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/04/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 16/04/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 16/04/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 16/04/2016

Leave a Reply