पगडंडी

मुझे चलने दो इन पगडंडियों पर
न खीचो इन विशाल खेतो में
भुल गयी अपनी पगडंडियों का रास्ता
तो देर हो जायेगी खुद से मिलने में

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 12/04/2016
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 13/04/2016
  3. Saviakna Saviakna 13/04/2016
  4. Saviakna Saviakna 13/04/2016
  5. Vimal Kumar Shukla Vimal Kumar Shukla 14/04/2016
  6. Saviakna Saviakna 14/04/2016

Leave a Reply