समझ ही न पाई

बात लब तक आयी तो|
हमने उसको बताई तो|
मेरा कसूर क्या प्यारे |
वो समझ ही न पाई तो?

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/04/2016

Leave a Reply