जबसे तुझे जाना है चाहा है ||गीत ||

जबसे तुझे जाना है , चाहा है
तुझे अपना ख़ुदा मैंने माना है

तू न बन बेख़बर मेरी जाँना
बचपन से हूँ मैं तेरा दीवाना
तू साथ है तो नहीं कोई ग़म
चाहत की दरिया में डूब जाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 1

दे जगह जुल्फों की घनेरी छाँव में
ले चल मुझे तू प्रेम के नगर में
ज़िन्दगी हैं जीना तुम्हारे साथ में
तेरे दिल को मंदिर बनाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 2

ढूँढ़ती है निगाहें बस तेरी चेहरा
सागर से भी गहरा प्यार हमारा
हमसफ़र ज़िन्दगी के हर सफर में
तेरे हाथ थाम सदा चलना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 3

हिरनी जैसी है तेरी आँखे
कोयल सी मधुर तेरी बातें
तू ही ज़िन्दगी की तमन्ना है
तू ही ज़िन्दगी की अफसाना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 4

भूल से भी न भूलु मैं तुझे
मैं बसा लू धड़कन में तुझे
न रहो दूर तुम खफा हो के
दर्द जुदाई अब न सहना है
जबसे तुझे जाना है , चाहा है …….. 5

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/04/2016

Leave a Reply