मेरे दिल की बात: – तू मेरी जान है…..

जब कोई न था,
मेरे साथ.
तब तुमने थामा था,
मेरा हाथ.
ना देखा जात,
ना देखा पात,
कर लिया मुझसे प्यार.
‘तू मेरी जान है, तू ही अरमान है.
तू मेरे दिल का करार है’.
भुला नहीं सकता,
रुला नहीं सकता,
तुम सिर्फ मेरी हो,
दिल से बंधी डोरी हो.
ना देखती दिन,
ना देखती रात,
फिर भी करती है बात.
‘तू मेरी जान है, तू ही अरमान है.
तू मेरे दिल का करार है’.
तू रोती है,
मेरे लिए.
तू हस्ती है,
मेरे लिए.
ना देखती आस,
ना देखती पास,
फिर भी रहती है पास.
‘तू मेरी जान है, तू ही अरमान है.
तू मेरे दिल का करार है’. _________________________राकेश गुप्ता

2 Comments

  1. योगेश कुमार 'पवित्रम' योगेश कुमार 'पवित्रम' 01/04/2016
    • Rakesh Gupta 02/04/2016

Leave a Reply