४. अनमोल है ये जिन्दगी ………… |गीत |– “मनोज कुमार”

अनमोल है ये जिन्दगी, ना बार बार आयेगी|
प्यार करो, प्यार जीत, प्यार से हो जाएगी || …………….२

असहनीय पीड़ा हो या, कष्ट हो अनजाने |
सब सह लेंगे हम तो लेकिन, निराशा ना माने ||
दुनिया चाहे जो भी कहे, कहती रह जाएगी |
हम दोनों के प्यार की ये, कस्ती निकल जाएगी ||

अनमोल है ये जिन्दगी, ना बार बार आयेगी|
प्यार करो, प्यार जीत, प्यार से हो जाएगी || …………….२

लाखों हो सितम इसमें या, लाखों हो उल्हाने |
मरकर भी जीत जायेंगे, हम तो है पर्वाने ||
तेरे मेरे प्यार की, कहानी सच हो जाएगी |
सब रह जायेंगे पीछे, तू आगे निकल जाएगी ||

अनमोल है ये जिन्दगी, ना बार बार आयेगी|
प्यार करो, प्यार जीत, प्यार से हो जाएगी || …………….२

रिश्तेदारों परिवारों का, साथ मिले या नही |
प्यार की इन भावना को, मार नही पाएंगे ||
हारने की गुंजाईश ना, जीत कर दिखायेंगे|
गंतव्य की और अपनी, बढ़े चलें जायेंगे ||

अनमोल है ये जिन्दगी, ना बार बार आयेगी|
प्यार करो, प्यार जीत, प्यार से हो जाएगी || …………….२

“मनोज कुमार”

Leave a Reply