बेचैन मन

वह अपने आप को छुपाती है
सारी बाते लबो से दबाती है
कुछ कहना है तो कह दो
दो दिन की जींदगी और बाकी है।

मैं तो चाहता हूँ तुम्हें, सब को पता है
अपना हाले दिन तू अब तो बता दे
कितना अब इंतजार करू मैं
अपने लबो के पर्दे को अब तो हटा दे।

मैं बैठा रह गया तेरे इंतजार में
अब तो खुद को तू मुझसे मिला दे
अपना हाले दिल मुझे तू अब तो सुना दे
मुझे जीने का अब तो कोई रास्ता दिखा दे।

वह अपने आप को छुपाती है
पर नजरे उनकी सब बताती है
मैं जानता हूँ सब तेरी बाते
मुझे भी तो अब अपना बनाले ।

अभी भी इंतजार है उनका
कभी अपना चेहरा तो दिखा दे
खुल के तू जरा सा मुस्कुरा दे
जज़बातो को अपने लबो से उतार दे।

संदीप कुमार सिंह

Leave a Reply