गुनाह – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

गुनाह

हुस्न को देख कर …………..
इक गुनाह करने का दिल करता है
के सजदा कर लूँ में उसको ………..
खुदा की हर इबादत से पहले

शायर : सर्वजीत सिंह
sarvajitg@gmail.com

4 Comments

  1. कृष्ण सैनी krishan saini 30/03/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 30/03/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 30/03/2016

Leave a Reply