हाइकू।ख़ामोश रात।

हाइकू।ख़ामोश रात।

ख़ामोश रात
सन्नाटे की आहट
उड़ा उलूक

रूप तुम्हारा
झिलमिलाती आँख
बिना रूप के

स्वप्नलोक मे
धुँधली सी छाया
इंद्रधनुष

©राम केश मिश्र

Leave a Reply