जागो

देशविरोधी हलचल पर सरकारों के सुस्त रवैये से आहत सरकारों तथा सोए भारत वीरों को जगाती मेरी ताजा रचना —

दिल्ली के दरवाजों की दहलीज़ पे अब भी दलदल है
वीर शहीद को सेज शूल की आतंकी को मलमल है

पहले तो बस जख्म कुरेदे आज कोड़ में खाज हुई
सरकारों के सुस्त रवैए पर भी दुविधा आज हुई

शिक्षा के मंदिर के बिल से साँप निकल कर आए हैं
यही वो बिच्छू हैं जो माँ का माँस निगल कर आए हैं

खुले खजाने किस हक़ से इनके सरकारी भिक्षा के ?
ये “जेएनयू” और “जादवपुर” अड्डे हैं किस शिक्षा के ?

किन मुल्कों की भक्ती का ये रातों दिन गुणगान करें ?
भारत माता के कातिल ये अफजल का सम्मान करें ?

ये तो बस प्यादे भर हैं पर्दे के और भी हैं
जाफ़र जयचंदों के बाकी कालचक्र में दौर भी हैं

तुष्टिकरण के चक्कर में ईमान सभी का डोला है
आँखों का दरिया भी अब तो लावा बन कर खौला है

लगता सिंह सनातन का अब आँख मूंदकर सोया है
देख कपूतों की करतूतें भारत का दिल रोया है

गऊ गीता गंगा रोती है और थाली में बीफ पड़ा
और जेहादी आतंकी का गली-गली में मीत खड़ा

जागो सोती सरकारें और हिन्द सनातन के वीरो
अपने मौनी खंजर से अब वक्ष हिन्द का मत चीरो

चाहे मस्त रहो रातोंदिन हनी सिंह के गानों में
पर गुस्ताखी हो पाए ना भगत सिंह की शानो में

आया वक़्त बुरा इसको ना आज हाशिये पर टालो
कोयल बनकर भूल के भी कौओं के बच्चे ना पालो

जागो ढूंढो किसी गली में भी अफजल हो सकता है
कोई लड़की इशरत तो लड़का अजमल हो सकता है

हंसो के भेषों कागा वंश भी तो हो सकता है
नाम कन्हैया हो चाहे पर कंस भी तो हो सकता है

रहे बाँस ना बजे बाँसुरी ना आतंकी हलचल हो
हर उस घर में आग लगाओ जिसमें पैदा अफजल हो

इन दुष्टों को मार के भारत का सम्मान बुलंद करो
जेएनयू और जादवपुर जैसे सब अड्डे बन्द करो

कहे “देव” ना माफ करो अब पाकिस्तानी पापों को
फाँसी पर चढ़वा दो सब मिलकर अफजल के बापो को