आग ही लगा दो

धर्मग्रंथ खो गये हैं वेद मंत्र सो गये हैं और आग लगी गंगा यमुना के पानी में
बेटियों की और गऊ माँ का हुआ हाल बुरा, खोट लगे सबको भगवान की निशानी में
सब्र अब खो रही है भारती माँ रो रही है उलझे सभी हैं हीर रांझा की कहानी में
देश धर्म के हितों काम ना आ पाए फिर आग ही लगा दो ऐसी अल्हड़ जवानी में