ढोंगी

सुनो ढोंगी सारे मनु ग्रंथ को जलाने वाले
झूटे सम्मान का ये ढोंग बन्द कीजिए
और फैलती समाज में जो भी बुराइयां हैं
उनको भगाने के उपाय चंद कीजिए
ग्रंथ को जलाने से जो हो जाए बुराई दूर
फिर तो ऐसे ही कृत्यों का आनंद लीजिए
दम है तो झूटी अभिमानी जो किताब
आसमानी उसको जलाने का प्रबंध कीजिए

कवि देवेन्द्र प्रताप सिंह “आग”
9675426080