बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है…

क्यूँ उदास हुआ खुद से है तूँ
कहीं भटका हुआ सा है,
न जाने किन ख्यालों मे
हर-पल उलझा हूआ सा है,
बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है

खोया-खोया सा रहता है
अपनी ही दुनिया मे,
गुज़री हुई यादों मे
वहीं ठहरा हुआ सा है,
बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है

शीशा-ए-ख्वाब तो टूटा नहीं
तेरे हाथों से फिसल के,
जो आँखों मे टूटे ख्वाब लिए
यूँ रूठा हुआ सा है,
बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है

क्यों उम्मीद किए बैठा है तूँ
वफ़ा की इस जमाने से,
यहाँ कीमत लगी है प्यार की
इश्क़ बिका हुआ सा है,
बता ऐ-दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है

…इंदर भोले नाथ…
(१३/०३/२०१६)
Visit on my page:-
http://merealfaazinder.blogspot.in/

4 Comments

  1. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 'आलेख' 31/03/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 31/03/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/03/2016
  4. Inder Bhole Nath Inder Bhole Nath 31/03/2016

Leave a Reply