हमे डर लगता है

हमें डर लगता है
इसी लिए तो चुप रहते है
वरना कलाम तो हमारी भी
खूब चलती है।
हमे डर लगता है
सामाजिक मुद्दो पर लिखने मे
अपने विचार रखने में
अपने आप से लड़ने में।
देख लेते है हम
अपनी आंखे बंद करके
लोगो को रोते, चिल्लाते
साँसे थाम लेते है, कलम बंद कर लेते है ।
हमें डर लगता है
इसी लिए तो आंखे मूँद लेते है
वरना इन आंखो से भी
चिंगारियाँ खूब निकलती है।
कलम रोती है मेरी, कहती है
कभी तो मुझे छोड़ दो
आजादी से लिखने दो, पर
इसे कैसे समझाऊँ
हाथ स्व्यम रुक जाती है ।
हमें डर लगता है
इसी लिए तो चुप रहते है
वरना कलाम तो हमारी भी
खूब चलती है।
>>> संदीप कुमार सिंह <

4 Comments

  1. anuj tiwari 13/03/2016
    • संदीप कुमार सिंह संदीप कुमार सिंह 12/04/2016
  2. sanjeev kalia sanjeev kalia 14/03/2016
    • संदीप कुमार सिंह संदीप कुमार सिंह 12/04/2016

Leave a Reply