तकरार – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

तकरार

सुना है तकरार

मोहब्बत की पहली सीढ़ी होती है

पर कई बार टाँग तुड़वाई है हमने

पहली सीढ़ी से फिसल के …………

शायर : सर्वजीत सिंह
sarvajitg@gmail.com

9 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/03/2016
  2. sarvajit singh sarvajit singh 12/03/2016
  3. omendra.shukla omendra.shukla 13/03/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 13/03/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/03/2016
    • sarvajit singh sarvajit singh 13/03/2016
  5. kamal 13/03/2016
  6. anuj tiwari 13/03/2016

Leave a Reply