मौत से कौन बच पाया है

हर रोज किसी ना किसी की मौत की खबर आती हैं ।
मुझको भी अब मेरी मंजिल साफ नजर आती हैं ।
गुजरता है जब मेरी गली से भी किसी का जनाजा ,
मेरी जिंदगी भी नजर मुझे मुख़्तसर आती हैं ।
क्या करेंगे खुदा से हम उम्र-ए दराज मांग कर ,
सालो साल जीने के बाद भी मौत तो मगर आती है ।
मौत से कोन बच पाया है आज तक “एझाझ”
तुम जिधर भी चले जाओ ये उधर आती है ।
-एझाझ अहमद

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/03/2016

Leave a Reply