इल्जाम बता जा

मुझे सजा देने वाले
इल्जाम तो बता जा!!
न कर मुझसे बात
निगाहों से जता जा!
कोई तो डोर थी हमारे दरमियान
एक झटके में धागा तोड़ के न जा!
अजनबी हो जाऊ खुद से ही
इस कदर बेरूखी न दिखा जा!

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/03/2016
  2. Savita 12/03/2016
  3. pallavi laghate 14/03/2016
  4. Saviakna Savita 14/03/2016

Leave a Reply