ज़िन्दगी

करवट लेती है ज़िंदगी
बीते हुए पलों का कोई हिसाब किताब नहीं
कुछ हँस कर बीते कुछ आँसूँओँ में
ढूँढ ही लेंगे,बिछड़े हैं जो पल,कहीं ना कहीं

हर एक लम्हा है बेशक़ीमती
जुड़ी हैं यादें कुछ खट्टी कुछ कुछ मीठी
सिखा गयी हर बात कुछ सबक़ नया
कोई बाजी हारी और एक आध जीती

निशा

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/03/2016

Leave a Reply