* खेल अनूठा *

ऐ दुनिया झूठी
ऐ जग झूठा
माया का ऐ
खेल अनूठा ,

ऐ रिश्ते झूठी
ऐ नाते झूठा
स्वार्थ का ऐ
खेल अनूठा ,

ऐ मान झूठी
ऐ अभिमान झूठा
तृष्णा का ऐ
खेल अनूठा ,

ऐ धन झूठी
ऐ दौलत झूठा
भौतिकता का ऐ
खेल अनूठा ,

आत्मा सच्ची
प्रमात्मा सच्चा
कर्म-धर्म का
मेल अनूठा ,

रब रूठे सब रूठा
झूठा-झूठी यही छूटा
प्रकृति का का ऐ
खेल अनूठा।

Leave a Reply