जिंदगी की सीख …..


कहते है जिंदगी बहुत कुछ सिखला देती है
रोने और मुस्कुराने की अदा सिखला देती है
कुछ सीखकर बन जाते सरताज दुनिया के
कुछ को उलझाकर जीने की अदा भुला देती है !!
!
!
!
डी. के. निवातियां___!!!

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/03/2016
  2. sarvajit singh sarvajit singh 04/03/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/03/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/03/2016
  3. anuj tiwari 05/03/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/03/2016
  4. Saviakna Savita 12/03/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/03/2016

Leave a Reply