गजल

क्या करू सिकवा खुदा से वह भी तेरा चाहनेवाला निकला
फूल सी कोमल बदन में पत्थर दिल बनानेवाला निकला

प्यार की क्या मिसाल दें हम दो बदन और एक जान थें
जिसे चाहा जिंदगी से बढ़कर वही हमें मिटानेवाला निकला

उनकी एक हसी के लिए किया कुर्वान हर ख़ुशी अपनी
जिसे समझा तकदीर अपनी वही शख्स रुलानेवाला निकला

हर डगर पे बिछाई फूल हमने न हो कोई तकलीफ उनको
जिगर में होती है दर्द बहुत जानकर वो सतानेवाला निकला
१८-०७-२०१५

Leave a Reply