गजल

गैरों की क्या बात करूँ हमने अपनो को भी आजमाया था
पूजा किया उन पत्थरों को जिससे रास्ते में चोट खाया था

कंधे में लेकर घूमते थे जिसे आज रसोई हो गई अलग उनसे
खुद भूखा सो कर भी उन्हें हमने जो भी मिला खिलाया था

सुख मिले उन्हें कह कर मुसिवतें उठाएँ कितने हमने
दिवार लग गयी आँगन में जहाँ कभी सुन्दर घर बसाया था

अपने निचे समेटकर अन्धेरा जिंदगी भर दिया जलता रहा
और तूफान आने से पहले खुद जलती हुई दिया बुझाया था

अपने भी अब न होते अपने इस मतलवी दुनियाँ में
मगरमच्छ के आँशु चुहाते उसने पार्थिव अर्थी जलाया था
२६-०६-२०१५

Leave a Reply