फितरतें

लफ्ज दुआओं तक रहें तो अच्छा है
नजरें हयाओं तक रहें तो अच्छा है

टूटकर विखरना काँच की फितरत है
आईने निगाहों तक रहें तो अच्छा है

हमारे गुनाहो को दुनिया से दूर रखना
ये वन्द दीवारों तक रहें तो अच्छा है

किसी को टूटकर की मोहब्बत हमने
अब वो रजाओं तक रहें तो अच्छा है

हमारे इम्तिहानों के काँरवें कहाँ रूकेंगें
कुछ दर्द सदाओ तक रहे तो अच्छा है

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/03/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/03/2016

Leave a Reply