दिन होली के आ गए !

दिन होली के आ गए !
भोर बासंती उजास भर रही ,
साँझ के राग फागुनी भये,
गेंदा खिले, गुलाब खिल रहे ,
डहेलिया ध्वजा फहरा गए ,
मनभावन दिन आ गए !
होली के दिन आ गए !!
टेसू के जंगल लाल हो रहे ,
अमिया के बाग़ बौरा गए ,
शम्भू की ठंडाई घुटने लगी,
गुलाल गाल सजा गए ,
गुझिया के दिन आ गए !
होली के दिन आ गए !!
– दीपिका शर्मा

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/03/2016

Leave a Reply